दिल मेरा कियूं आजकल बेपनाह उदास है

Kapil Kumar

रचनाकार- Kapil Kumar

विधा- गज़ल/गीतिका

एक रचना…………………आपकी नजर

अजीब सी है खलिश अजीब अहसास है
दिल मेरा कियूं आजकल बेपनाह उदास है
*******************************
हंसी भी है बुझी बुझी दर्द दिल के पास है
ख़ुश्क सी है जिंदगी अजीब एक प्यास है
********************************
है वजह कुछ भी नही बात न कुछ खास है
दिल भी है ख़फा ख़फा न होश न हवास है
********************************
खुद पे ही कियूं ए दिल अब नही विश्वास है
टूट न अभी जिंदगी बाकी अभी भी आस है
*********************************
आज हरेक ढोह रहा अब अपनी ही लाश है
फिर भी हरेक को यहां जिंदगी की तलाश है
*********************************
कपिल कुमार
2/12/2016
.

Sponsored
Views 45
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Kapil Kumar
Posts 154
Total Views 697
From Belgium

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia