दिल मेरा कियूं आजकल बेपनाह उदास है

Kapil Kumar

रचनाकार- Kapil Kumar

विधा- गज़ल/गीतिका

एक रचना…………………आपकी नजर

अजीब सी है खलिश अजीब अहसास है
दिल मेरा कियूं आजकल बेपनाह उदास है
*******************************
हंसी भी है बुझी बुझी दर्द दिल के पास है
ख़ुश्क सी है जिंदगी अजीब एक प्यास है
********************************
है वजह कुछ भी नही बात न कुछ खास है
दिल भी है ख़फा ख़फा न होश न हवास है
********************************
खुद पे ही कियूं ए दिल अब नही विश्वास है
टूट न अभी जिंदगी बाकी अभी भी आस है
*********************************
आज हरेक ढोह रहा अब अपनी ही लाश है
फिर भी हरेक को यहां जिंदगी की तलाश है
*********************************
कपिल कुमार
2/12/2016
.

Views 31
Sponsored
Author
Kapil Kumar
Posts 154
Total Views 536
From Belgium
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia