दिल को गिरवी दे रखा है

निर्मल सिंह 'नीर'

रचनाकार- निर्मल सिंह 'नीर'

विधा- गज़ल/गीतिका

ख़ुद को धोखा देकर रखेगे , कब तक?
उस चाँद को दिल मे हम रखेगे, कब तक?

जिसको जाना था, न आयेगे वो चले गए हैं
हम रह पर भला नज़र रखेगे, कब तक?

इस इश्क़ बदौलत ये आलम अब होता है
हर चेहरे में वो चेहरा देखेंगे , कब तक?

वो कहा गए-आए? अब क्या मतलब है
और लेखा-जोखा हम रखेगे, कब तक?

वो घूमते है जहा भी उनका मन करता है
बंद कमरे में खुद को हम रखेगे, कब तक?

दिल को अपने अब मैंने गिरवी दे रखा है
इसको उस चौखट पे हम रखेगे, कब तक?
…………………………
निर्मल सिंह 'नीर'
दिनांक – 14 जुलाई, 2017

Sponsored
Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निर्मल सिंह 'नीर'
Posts 11
Total Views 65
जन्म - गाँव त्योरासी, परसपुर जिला - गोंडा, उत्तर प्रदेश, शिक्षा - हाईस्कूल और इंटरमीडिएट - जवाहर नवोदय विद्यालय, मनका पुर, गोंडा, कार्यरत - रियाद सिटी, सऊदी अरब

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia