दिल कहे, ‘आना-जाना’ चाहिए, रोज़ रोज़, ‘नया बहाना’ चाहिए।

Basant Malekar

रचनाकार- Basant Malekar

विधा- गज़ल/गीतिका

#सफ़रनामा

दिल कहे, 'आना-जाना' चाहिए,
रोज़ रोज़, 'नया बहाना' चाहिए।

दीदार को, उस रेशमी मुखड़े का
अचूक, 'नज़र-ऐ-निशाना' चाहिए।

एक से बचे दूजे गस खाके गिरें,
नज़र भी हमें 'क़ातिलाना' चाहिए।

असर ज़माने का मेरी मोहब्बत पे
ईश्क़-ऐ-अदब 'वहशीयाना' चाहिए।

दिल कहे, 'आना-जाना' चाहिए,
रोज़ रोज़, 'नया बहाना' चाहिए।

Basant_Malekar

Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Basant Malekar
Posts 9
Total Views 84
अभी तक कुछ नही........ student of the KG1 बालोद, छत्तीसगढ़ कुछ सलाह रूपी आदेश अवश्य देते रहे, निवेदन है 😊😊

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia