दिल करता है……………. कर देता हूँ |गीत| “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

रचनाकार- मनोज कुमार

विधा- गीत

मैं और मेरी कलम……………..

दिल करता है जब जब में,लिख देता हूँ |
मैं अपनी कलम से अपना, दर्द बयाँ कर देता हूँ ||

मैं और मेरी कलम हम दोनों, एक दूजे के साथी है |
इसके बिना अधूरा हूँ मैं, मेरे बिना ये आधी है ||
तीखी हों या मीठी बातें, सब कुछ साफ कह देता हूँ |
दिखे आइना जैसा सब कुछ, अपनी कलम से कहता हूँ ||

दिल करता है जब जब में, लिख देता हूँ |
मैं अपनी कलम से अपना, दर्द बयाँ कर देता हूँ ||

इससे वफा में करता हूँ, बहुत जबरदस्त ये लिखती है |
सपनों को साकार करे ये, मन प्रफुल्लित करती है ||
नन्ही कलम हूँ छोटी सी, पूजा इसकी करता रहूँ |
दिल छू ले ऐसी बातें, और प्रेम गीत रचता रहूँ ||

दिल करता है जब जब में, लिख देता हूँ |
मैं अपनी कलम से अपना, दर्द बयाँ कर देता हूँ ||

बिना कलम के वीणापाणी, मैं तो जी सकता नही |
रुके कलम ना मेरी माँ, शारदे विनती करता यही ||
सरस सरल और मीठा सा, ताना बाना बुनता रहूँ |
करता है “मनोज” कामना, प्यारा सा लिखता रहूँ ||

दिल करता है जब जब में, लिख देता हूँ |
मैं अपनी कलम से अपना, दर्द बयाँ कर देता हूँ ||

( मनोज कुमार )

Sponsored
Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मनोज कुमार
Posts 41
Total Views 888
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia