दामिनी

मितुल एम जुगतावत

रचनाकार- मितुल एम जुगतावत

विधा- कविता

चीख थी वो उसकी, पर किसी ने ना सुनी,
जिसने सुनी ,उसने कर दी अनसुनी.
जिसकी थी जीने की तमन्ना, वही हम सबको छोड चली
क्यों एक लडकी फिर से, इन दैत्यों के हाथों छली.
यहां हर बीस मिनट में लडकी , दानवों की बलि चढी
थी जो इस देश की राजधानी, वह अब बलात्कारियों की राजधानी है बनी.
इतना सब होने के बाद भी, पीडित लडकी ही दोषी बनी
देखो इन दुस्साहसी दानवों को ,अपनी गलती लडकी पर ही मढी.
क्या होगा अब इस देश का, इसी सोच में मैं अब तक पडी
जो आई थी इस देश में, सीख देने व बनाने एक मजबूत कडी.
एक मात्र जिसने चीख थी सुनी , वह सरकार के डर से उड चली
अब तो जो खेलते थे सालों से ,
चलो खेलें वही आंख मिचौली ,चलो खेलें वही आंख मिचौली
मितुल एम जुगतावत

Views 37
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
मितुल एम जुगतावत
Posts 1
Total Views 37
बी॰ ए। प्रथम वर्ष इतिहास (ऑनर्स) दिल्ली विश्वविध्यालय

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia