दहेज के दानव

कवि कृष्णा बेदर्दी

रचनाकार- कवि कृष्णा बेदर्दी

विधा- गीत

दहेज गीत ___________

इक नन्ही सी कली,माँ की बगिया में खिली,
देके खुशियां हजार, एक दिन पिया घर चली,

जब तक कली थी डाली से लिपटी रही,
माँ के आँचल में छुपकर दूध पीती रही,

कली से बनकर फूल धागे में पिरोई गई,
किसी के गले हार बनते ही टूट कर बिखर गई,

चल पड़ी हैं पिया के संग हो गई सगाई,
लोग कहने लगे बेटी तेरी अब हो गई पराई,

ससुराल में जाते ही जुल्म सहने लगी,
क्या लाई हैं दहेज में ताने सुनने लगी,

जुल्म सहकर भी आँखों से आंसू न गिराई,
गले की थी हार जो बेटी पैरो से रौन्दी गई,

दहेज के दानवो ने जुल्म उस पे ढाया,
लगा इल्जाम उसपे घर से उसको भगाया,

मांगती फिर रही हैं न्याय समाज के कानून से,
निराशा हाथ आई उसको माँ-बाप के घर से,

अनसुनी करके उसकी बाते धज्जिया उड़ाई गई,
देकर राखी की दुहाई भाई को भी निराशा पाई ,

एक गरीब की बेटी ने दुनिया से मुह मोड़ लिया,
हार कर जीवन से अन्त में आत्महत्या कर लिया,

बेदर्दी कहे समाज से सुनो दहेज के दानव,
तेरे घर में भी हैं बेटी बन जा अब मानव,

बेदर्दी कहे सच में दहेज प्रथा जंजाल हैं,
इससे ही तो घटी हैं बेटी का मान हैं,

नई गृहस्थी के लिए सुनो दहेज इक क्लेश हैं,
बन गई दहेज प्रथा आज इक कालिख देश हैं,

Sponsored
Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कवि कृष्णा बेदर्दी
Posts 69
Total Views 164
कवि कृष्णा बेदर्दी ( डाक्टर) जन्मतिथि-०७/०७/१९८८ जन्मस्थान- मधुराई (तमिलनाडु) शिक्षा मैट्रिक -विलेपार्ले(मुम्बई) शिक्षा मेडिकल - B.A.M.S.(लन्दन) प्रकाशित पुस्तक- हिन्दी_हमराही,अनुभूति,महक मुसाफिर, तेलुगु, हिन्दी-तेलुगू फिल्मों में गीतकार शौक_ डांस,अभिनय,गिटार,लेखन, नम्बर- +918319898597 Email I'd kavibedardi@gmail.com, Facebook link https://m.facebook.com/Bedardi? Twitter_@kavibedardi

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia