दहेज की आग

डॉ सुलक्षणा अहलावत

रचनाकार- डॉ सुलक्षणा अहलावत

विधा- गज़ल/गीतिका

ज्वालामुखी सी सुलगती रहती है ये दहेज की आग,
हमने कानून बना दिए हैं सरकार अलापे यही राग।

पर दहेज की आग का दर्द एक पिता ही जानता है,
बेटी के सुख की चिंता में जो कब से से रहा है जाग।

सब कुछ बेच दिया उसने बेटी की खुशियों के लिए,
फिर भी पल पल खुशियों को डसता दहेज का नाग।

बेटे वाले खुश हो लेते हैं दहेज को बटोरकर पल भर,
भूल जाते हैं बेटा बेचा है उन्होंने, कैसे धुलेगा ये दाग।

मारी जाती हैं ना जाने कितनी बेटियाँ दहेज के कारण,
मार कर दूसरे की बेटी कहते पीछा छूटा थी वो निर्भाग।

कैसे भला होगा इन दहेज के लोभियों का खुद सोचो,
जब बीतेगी इनके साथ निकलेगा इनके मुँह से झाग।

कानून बनाने से कुछ नहीं होगा, सोच बदलनी होगी,
घटिया सोच के कारण खुद से ही रहे हैं लोग भाग।

घर के आँगन में लगी तुलसी, गृहलक्ष्मी होती है बहु,
जागरूकता फैलाने का सुलक्षणा को लगा है वैराग।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Sponsored
Views 162
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
Posts 115
Total Views 26.5k
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ सरस्वती की दयादृष्टि से लेखन में गहन रूचि है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia