दहेज एक राक्षस

दिनेश एल०

रचनाकार- दिनेश एल० "जैहिंद"

विधा- लघु कथा

लघुकथा : दहेज एक राक्षस
दिनेश एल० "जैहिंद"

बिन ब्याही कमला खुद को एकांकी पाकर आज अतीत के गलियारे में गोता लगा रही थी । वह पैंसठवां वसंत पार कर चुकी थी । न चाहते हुए भी वह अपने भयानक अतीत में खो जाती है — “चालीस वर्ष पहले की ही तो बात है । द्वार पर बारात आ चुकी थी । मैं कमरे में सजी-सँवरी सखियों के बीच दुल्हन बनी बैठी थी । दूल्हे राजा, सारे बाराती व सारे नाते-रिश्तेदार द्वार पर इकट्ठे हो चुके थे । द्वार-पूजा की रस्में पूरी होने ही वाली थीं । तभी दहेज के बाकी पैसे की मांग दूल्हे के बाबूजी ने मेरे पिताजी के आगे रख दी । पिताजी के पास अब एक फूटी कौड़ी न बची थी । लाख मनुहार करने के बाद भी वरपक्ष के लोगों ने एक न सुनी । बारात द्वार से फिर गई, पिताजी यह सदमा सह न सके । उसी वक्त उनका प्राणांत हो गया और मेरे ऊपर तो जैसे बिजली ही गिर पडी थी ।"
पच्चीस वर्षीया जवान कमला दहेज के कारण ब्याहते-ब्याहते रह गई और आज वह उम्र के इस पडाव पर अपनी गांठ बाँधी गईं बातें सोचकर रो पडी—“जब राक्षस रूपी दहेज की बलिवेदी पर मेरी जवानी भेंट चढ़ गई तो मैं अब आजीवन कुंवारी ही रहूँगी । कभी भी ब्याह नहीं करूँगी ।"
अपने दोनों हाथों से अपना चेहरा ढाकके कमला फफक कर रो पडी ।

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
22. 04. 2017

Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
दिनेश एल०
Posts 96
Total Views 1.1k
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों मे भी संघर्ष कर चुका,,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia