दवा से जो नही होते

Dharmender Arora Musafir

रचनाकार- Dharmender Arora Musafir

विधा- गज़ल/गीतिका

*दवा से जो नहीँ होते*
1222 1222 1222 1222
दवा से जो नहीँ होते दुआ से काम होते हैं!
जहाँ में आज भी ऐसे करिश्मे आम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
गलत राहों से जीवन में हमेशा दूर तुम रहना!
बुरे हर काम के देखो बुरे अंजाम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
निराला सा चलन देखा जहाँ में आज लोगों का!
बगल में है छुरी रखतें जुबां पे राम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दिलों में इस ज़माने के पनपती साज़िशें हरदम!
बशर की जान के तो बस ज़रा से दाम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
समझते हैं कहाँ ज़ालिम हमारे दर्द को अब भी!
जो'हँस-हँस कर वो' पीते हैं लहू के जाम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
कहाँ मिलती है अहले-दिल को भी मंज़िल मुहब्बत की!
बशर तो प्यार की खातिर सदा बदनाम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
बड़ी शातिर है ये दुनिया नहीँ काबिल भरोसे के!
यहाँ किस्से फरेबों के तो'सुब्हो -शाम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
रखो किरदार की दौलत हमेशा ही ज़माने में!
समय के साथ जो चलते उन्हीं के नाम होते हैं!! :::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
मुसाफ़िर इस गज़ल में भी पते की बात को कहता!
इबादत जो नहीँ करते सदा नाकाम होते हैं!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
धर्मेन्द्र अरोड़ा'मुसाफ़िर'

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 18
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Dharmender Arora Musafir
Posts 72
Total Views 795
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia