दर्द शहीद के परिवार का

डॉ सुलक्षणा अहलावत

रचनाकार- डॉ सुलक्षणा अहलावत

विधा- कविता

छाती उस माँ की भी फ़टी होगी,
दुनिया उस बाप की भी लूटी होगी,
जिसका बेटा शहीद हो गया यहाँ।

चरणों को जब उसने छुआ होगा,
दर्द उस पत्नी को भी हुआ होगा,
जिसका पति शहीद हो गया यहाँ।

आँखें नम उस संतान की भी हुई होंगी,
दर्द की उसके तन मन में चुभी सुई होंगी,
जिसका बाप शहीद हो गया यहाँ।

ये किस मानवाधिकार आयोग के पास जाएँ,
कौन सुनेगा इनके दर्द को किस से आस लगाएँ,
जिनका सब कुछ शहीद हो गया यहाँ।

आंतकवादी में भटका इंसान नजर आ जाता है
पर इंसानों को मारता हैवान नजर नहीं आता है,
जिसके कारण कितने शहीद हो गए यहाँ।

शहादत पर घटिया ब्यान देने वाले भूल जाते हैं,
उन्हीं की वजह से हम रातों को चैन से सो पाते हैं,
जो हमारे लिए शहीद हो गए यहाँ।

मिले फुर्सत तो जाकर देखना दर्द उनका,
सुलक्षणा हो सके तो लिखना दर्द उनका,
जो हँसते हँसते शहीद हो गए यहाँ।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Views 52
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
Posts 115
Total Views 23.6k
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ सरस्वती की दयादृष्टि से लेखन में गहन रूचि है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia