दर्द दिल का न जलाओ तुम

बबीता अग्रवाल #कँवल

रचनाकार- बबीता अग्रवाल #कँवल

विधा- गज़ल/गीतिका

दर्द दिल का न जलाओ तुम
अब न मेरे करीब आओ तुम

जख्म मेरा भरा नहीं है अभी
यूँ न सितम ये और ढाओ तुम

परेशां हूं मैं तेरी ही बातों से
और न मुझे अब सताओं तुम

दफ्न है दिल में सफर यादों का
के उसे ना अब सुलगाओं तुम

बेवफ़ाई से तेरी बहुत तड़पी हूं
अब ना और मुझे तड़पाओं तुम

रुलाई न छूट जाये कँवल की
के यहाँ से अब चले जाओ तुम

बबीता अग्रवाल #कँवल

Views 73
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
Posts 51
Total Views 3.5k
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia