दर्द की बात ना करो

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

🌹🌹🌹🌹🌹
दर्द की बात ना करो,
हम तो दर्द में ही रहते हैं।
हर रोज घुटते-मरते हैं,
पर किसी से नहीं कहते हैं।
वक्त ने जो भी किया सितम
सब हँस-हँस कर सहते हैं।
हम तो वो गुलाब हैं जो
रोज काँटों की चुभन सहते हैं।
काँटों की चुभन सहकर भी
खिलखिला कर हँसते हैं।
किससे करे शिकायत ?
जख्म देने वाले भी तो अपने हैं।
हम तो अपने के
भीड़ में भी अकेले रहते हैं।
दर्द की बात ना करो,
हम तो दर्द में ही रहते हैं।
🌹🌹🌹🌹—लक्ष्मी सिंह 💓😊

Views 118
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 140
Total Views 42.6k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia