दर्द-ए-ग़म

अलका जैन

रचनाकार- अलका जैन

विधा- शेर

दर्द-ए-ग़म =
लेखिका- श्रीमति अलका जैन, रानीपुर झांसी

1, गर रोने से दर्दो ग़म का
मिटना मुमकिन होता!
तो दुखियों के अश्कों में
जमाना बह गया होता !

2, न खुशी की सराय है कोई
न ही सुकून-ए-डेरा है!
दिल की शाख पे बस
दर्दों ग़म का बसेरा है !

3, फकत इक दर्द से तुम
इतने मायूस हो गये,
बेहिसाब दर्द सहकर भी
देखो मुस्कुरा रहे है हम !

Views 36
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अलका जैन
Posts 2
Total Views 89

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia