*** थाह नहीं ***

Ranjana Mathur

रचनाकार- Ranjana Mathur

विधा- कविता

तेरा यह गांभीर्य,
लिए है कितनी गहराई?
है आभास नहीं।
मांँ कहलाना हे वसुंधरे,
क्या होता है आसान कभी?
जगत् माता निज उर पर,
तू सहिष्णुता की प्रतिमूर्ति बन,
सहती रही स्व कुपुत्रों के उत्पात कई।
तेरी ही छाती को विदीर्ण होते,
युगों युगों से देखा है।
तेरे विशाल ममतामयी उर को,
वीभत्स रूप से,
पूर्ण रक्त रंजित कर डाला बारम्बार।
करुण रुदन व आर्त नाद,
और क्रंदन की भीषण विभीषिका सही,
अवनि तेरे सुपुत्रों ने बहुत कभी।
तथापि तूने हे सुमाता,
दर्शाया अप्रतिम धैर्य और,
अतुल्य त्याग को ही।
ममत्व में न किया,
भेदभाव कहीं।।
सर्वस्व किया न्योछावर सब पर,
फिर भी तूने इकसार सदा।
यहीं तूने पढ़ाया पाठ हमें,
ममत्व के उदारीकरण का।
हे मांँ,
जग जननी ओ धरती माँ,
धन्य धन्य ओ वसुधा माँ।
——रंजना माथुर दिनांक 23/07/2017 (मेरी स्व रचित व मौलिक रचना ) ©

Sponsored
Views 36
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ranjana Mathur
Posts 106
Total Views 3.6k
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र "कायस्थ टुडे" एवं फेसबुक ग्रुप्स "विश्व हिंदी संस्थान कनाडा" एवं "प्रयास" में अनवरत लेखन कार्य। लघु कथा, कहानी, कविता, लेख, दोहे, गज़ल, वर्ण पिरामिड, हाइकू लेखन। "माँ शारदे की असीम अनुकम्पा से मेरे अंतर्मन में उठने वाले उदगारों की परिणति हैं मेरी ये कृतियाँ।" जय वीणा पाणि माता!!!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia