तेरी याद सदा आती है

राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

रचनाकार- राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

विधा- कविता

तेरी याद सदा आती है….
मुझको तू हरदम भाती है…
रहता हूँ शांत भरोसों से …..
पर विकट व्यथित हूँ झरोखों से…
है बहुत अधीर है वीर ह्रदय
वीरों की धडकन सत्य सदय…
मुझको तू सतत् तडपाती है..
तेरी याद सदा आती है….
हिमालय से टकराती हवाएँ…
कह जाती बहु – बहुत व्यथाएँ
है मौन पडी हर प्रफुल्लित दिशाएँ….
विकृत – संकुचित विविध दशाएँ….
कभी अचानक तू भूल जाती है..
तेरी याद सदा आती है…..
तूझको लगता अब खोना होगा..
पा हर गरल – व्यथा, विभत्स होना होगा…
माँ भारती त्वरित , बुलाती है…
तेरी याद सदा आती है….

Sponsored
Views 17
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय
Posts 31
Total Views 752
एक राष्ट्रवादी व्यक्तित्व कवि, लेखक , वैज्ञानिक , दार्शनिक, पर्यावरणविद् एवं पुरातन संस्कृति के संवाहक.....संरक्षक...

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia