तेरी नजरों का तीर

Anuj yadav

रचनाकार- Anuj yadav

विधा- गज़ल/गीतिका

तेरी नज़रों के तीर ने
मेरे दिल पर ऐसा किया पृहार है
जब भी आंख मिचता हूं बस
तेरी सूरत नजर आती बार-बार है
ऐसा हुआ मुझे पहली बार है
दिल की हर एक धड़कन में सुलगतेअंगार हैं
जाड़े के मौसम में होता गर्मी का खुमार है
यह तेरे इश्क का चढ़ गया मुझे बुखार है

Sponsored
Views 162
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Anuj yadav
Posts 14
Total Views 573
I am a student in class 11th writing is my hobby. I live pukhrayan in Up

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia