तेरा साथ

Raj Vig

रचनाकार- Raj Vig

विधा- कविता

तू पास रहे या दूर रहे
दिल मे बस तू वास करे
जन्म जन्म तुझे पाने की
दिल मे अमिट प्यास रहे ।

फूलो और बहारों को
संग तेरे पर नाज रहे
आती जाती सांसो मे
तेरे बदन की महक रहे ।

चन्दा को हर रोज
तेरे दीदार की आस रहे
सूरज की किरणो को भी
छूने की तुझे अभिलाष रहे ।

काली कज़रारी आंखों मे
छलकता तेरा प्यार रहे
उतार चढ़ाव के जीवन मे
हाथ मेरा तेरे हाथ रहे ।

चाह नही इस दुनिया की
हरदम अगर तू मीत रहे
मलाल नही कुछ खोने का
प्रीत अगर तेरी अमर रहे ।।

राज विग

Sponsored
Views 282
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Raj Vig
Posts 50
Total Views 2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia