तेरा नाम छा जाये

sunil soni

रचनाकार- sunil soni

विधा- गज़ल/गीतिका

जुबां पे तेरा ही बस तेरा नाम छा जाये ।
हसरत-ए-जिंदगी अब तो तमाम हो जाये ।।

मै चाहता हूँ तुझे सारा जमाना चाहे ।
हूँ सिर्फ तेरा मुझे एतबार हो जाये ।।

जर्रे जर्रे में नज़र आती है बस झलक तेरी
दिल में मेरे तेरी तस्वीर आम हो जाये ।।

छुपकर बैठे हो कहाँ ? तुम न नज़र आते हो ।
अब तो नज़रों पे ही दीदार-ए-करम हो जाये ।।

मै तुझे मानता हूँ जानता हूँ फिर भी नहीँ ।
मुझको वरदान दे कि ज्ञान -ए-गीता हो जाये।।

मैने गीतों में तुझे गाया है आठों ही प्रहर ।
शब्द-ए-सागर हरएक राम-राम हो जाये ।।४

सुनील सोनी "सागर"
चीचली(म.प्र.)

Views 109
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
sunil soni
Posts 12
Total Views 1.2k
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में aadyapak के पद पर कार्यरत । मोबाइल ~9981272637

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia