…तू है जुनून-सा…

राहुल रायकवार जज़्बाती

रचनाकार- राहुल रायकवार जज़्बाती

विधा- गीत

इन आँखों को…
कैसे बंद करूँ…
जब तू है मेरे सामने…
.
इस दिल में…
इक शोर है…
जैसे कह रहा हो
हर दिन तू हो मेरे सामने…
.
जब तू इतने करीब था. ..
उस दिन का
लम्हा वो हसीन था…
.
मेरे साथ तेरा…
यूँ चलना…
जैसे चाँद
चाँदनी बिखेरता..
.
तुझ बिन हूँ…
मैं अधूरा-सा…
कैसे कहूँ…
तू है जुनून-सा…
मेरा सुकून-सा…
#जज़्बाती…
#rahul_rhs

Sponsored
Views 27
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
राहुल रायकवार जज़्बाती
Posts 21
Total Views 310
उफ़...मीठी_चाय... कागज की नाव... अल्फाज मेरे....कलम तेरी... बस साधारण-सा कलमकार... #जज़्बाती....

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia