तू भी इल्ज़ाम लगाना तो ख़बर कर देना

चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

रचनाकार- चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

विधा- गज़ल/गीतिका

जब तसव्वुर से हो जाना तो ख़बर कर देना
या के मुझको हो भुलाना तो ख़बर कर देना

देखकर नाज़ो अदा तेरी, है मुम्क़िन जो बहुत,
जब हो ग़ुस्ताख़ ज़माना तो ख़बर कर देना

वैसे इन्कार हमेशा मैं किया करता हूँ
पर अगर पीना पिलाना तो ख़बर कर देना

मुझको चोरी से मेरे दोस्त इत्तेफ़ाक़ नहीं
जी करे जी को चुराना तो ख़बर कर देना

नाम है फिर भी मगर, रक़्बा-ए-दिल पर मेरे
जब भी क़ब्ज़ा हो जमाना तो ख़बर कर देना

हो जो मालूम तो सज धज लूँ ज़रा मैं भी सनम
अब कोई रात हो आना तो ख़बर कर देना

जी तेरा जब भी भटक जाए रहे उल्फ़त में
और पाए न ठिकाना तो ख़बर कर देना

राज़ हो जाए कभी फ़ाश मिलन का अपने
तुझको सूझे न बहाना तो ख़बर कर देना

जी चुराने के मुक़दमें हैं कई ग़ाफ़िल पर
तू भी इल्ज़ाम लगाना तो ख़बर कर देना

-‘ग़ाफ़िल’

Sponsored
Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’
Posts 50
Total Views 550
मैं ग़ाफि़ल बदनाम

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia