तू तड़पादे या ठुकरादे मुझे तू मार ही देना

कृष्णकांत गुर्जर

रचनाकार- कृष्णकांत गुर्जर

विधा- गज़ल/गीतिका

तू तड़पादे या ठुकरादे मुझे तू मार ही देना|
मुहब्बत मे न हारा जो उसे तू हार ही देना||

जो तुझको फूल देता हो उसे तू खार ही देना|
दो प्यार करने वालो को पजी तलवार ही देना||

प्यार की ये नौका को नदी की धार ही देना|
प्यार न देखा हो जिसने उसे तू प्यार ही देना||

ये उल्टी है सारी दुनिया ये झूठी है सारी कसमे|
दो शादी करने वालो को लगजरी कार ही देना||

कृष्णा के जीवन मै हसी बहार ही देना|
जो दिल चाहले जिसको उसे दिलदार ही देना||

Sponsored
Views 33
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कृष्णकांत गुर्जर
Posts 61
Total Views 2.8k
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia