तू क्या है?

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- अन्य

तू क्या है? ए तू ही जाने ,,
तेरा मन दर्पण ही जाने ,,
दूजे के भला बुरा कहने से,,
क्यों हर्ष-विषाद करें.?
दूसरे का कहना न मान,,
तू क्या है? यह खुद पहचान,,
पहले मन दर्पण में झांक ,,
फिर तू अपने आप को आंक,,
दूसरे को कभी बुरा न बोल,,
पहले अपने आप को तोल,,

रीता यादव

Sponsored
Views 32
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 37
Total Views 1.2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia