तू इश्क, तू खूदा

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

🌹🌹🌹🌹🌹🌹
तू इश्क , तू खूदा,
तू इबादत है मेरी।
तुमको पाकर पूरी हुई ,
हर चाहत मेरी।

तेरे बाहों के घेरे में,
है जन्नत मेरी।
यही चैन पाती है
सुकुन जिन्दगी मेरी।

ख्बाईश-ए -जिन्दगी,
बस इतनी सी है मेरी,
तेरे बाहों में ही
जान निकले मेरी।
🌹🌹🌹🌹🌹
—लक्ष्मी सिंह

Views 129
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 149
Total Views 46.2k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia