तुम

Sahib Khan

रचनाकार- Sahib Khan

विधा- गज़ल/गीतिका

तेरा हिजाब मेरा कफ़न न हो जाये,
इस तरह प्यार दफ़न न हो जाये,
तू रूठा न कर जालिम इस कदर,
मेरा दिल उजड़ा चमन न हो जाये,
तेरी आँखे दरिया है पर रोया न कर,
प्यास-ए-दीद तेरी ख़त्म न हो जाये,

Sponsored
Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sahib Khan
Posts 39
Total Views 328

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia