तुम

प्रदीप तिवारी 'धवल'

रचनाकार- प्रदीप तिवारी 'धवल'

विधा- कविता

तुम

अकुलाते मेघों की गड़गड़ाहट
अरण्य में मयूरों का कलरव
आकाश से जीवनी बरसात
धरती की बुझती प्यास
खेतों में बिछी गहरी हरियाली
अपरिचिता के केशों में अटकी बूँदें

जब संयोग ऐसा
होता है आस पास
हमेशा, याद आती हो तुम
भड़कती है मिलान की प्यास.

सुगन्धित आम के बौरों से लदे पेड़
गाँव को लौटते चरवाहे और गोरू
अपरचित ग्राम्या के चूल्हे से उठा धुआँ
आकाश का रक्त रंजित पश्चिमी कोना
सुरमई ढलती शाम, बसेरों में लौटते पखेरू

जब इन सबका
साक्षात्कार होता है
हमेशा, याद आती हो तुम
ऐसा हर बार होता है.

निशा के गहन आँचल में दुबका गांव
झुरमुटों से उनींदे झींगुरों की आवाज
'धवल' चाँदनी से भरा आँगन
सूनी आँखों में पल रहे कोमल स्वप्न
प्रतीक्षा में खोले किवाड़ बैठा मन

जब कभी रात का
सूनापन डसता है मुझे
हमेशा, याद आती हो तुम
ऐसा लगता है मुझे .

प्रदीप तिवारी 'धवल'

Views 281
Sponsored
Author
प्रदीप तिवारी 'धवल'
Posts 17
Total Views 7.7k
मैं, प्रदीप तिवारी, कविता, ग़ज़ल, कहानी, गीत लिखता हूँ. मेरी दो पुस्तकें "चल हंसा वाही देस " अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद और "अगनित मोती" शिवांक प्रकाशन, दरियागंज, नई दिल्ली से प्रकाशित हो चुकी हैं. अगनित मोती को आप (amazon.in) पर भी देख और खरीद सकते हैं. हिंदी और अवधी में रचनाएँ करता हूँ. उप संपादक -अवध ज्योति. वर्तमान में एयर कस्टम्स ऑफिसर के पद पर लखनऊ एअरपोर्ट पर तैनात हूँ. संपर्क -9415381880
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia