तुम हो तो………………

Er Dev Anand

रचनाकार- Er Dev Anand

विधा- कविता

तुम हो
तो सब कुछ है
तुम हो
तो सपने हैं
तुम हो
तो बहुत से रिश्ते अपने हैं
तुम हो
तो सपनों के रंग अलग है
तुम हो
तो जीवन में उमंग अलग है ।
तुम हो
तो घर,
घर है
सिर्फ चार खड़ी दीवार नहीं
तुम हो
तो परिवार है
सिर्फ लोग नहीं ।
तुम हो
तो जीवन की डायरी भरी-भरी सी है
सिर्फ कोरे कागज नहीं
तुम हो
तो जीवन एक फुलवारी है
सिर्फ बंजर जमीन नहीं
तुम हो
तो जीवन है
सिर्फ उम्र नहीं
तुम हो
तो दिन है खुशी से जीने के
सिर्फ काटने के समय नहीं ।
'तुम ही मेरे जीवन हो
तुम हो तो जीवन हो'
गर् तुम नहीं
तो कुछ भी नहीं
क्योंकि………..
तुम हो तो…………….

Sponsored
Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Er Dev Anand
Posts 9
Total Views 262
दिमाग से इंजीनियर दिल से रचनाकार ! वस्तुतः मैं कोई रचनाकार नहीं हूँ, मैं एक इंजीनियर हूँ । मैं वही लिखता हूं जो मेरी आंखें देखती हैं और दिल समझता है उन्हें को कलम के सहारे में व्यक्त कर देता हूं पेज पर। बहुत ज्यादा साहित्यिक भाषा नहीं आती है। पर प्रयास रहता है ज्यादा से ज्यादा सीखने का ज्यादा से ज्यादा आपकी रचनाओं को पढ़ने का और समाज के लिए कुछ करने का।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia