तुम ही हो

Govind Kurmi

रचनाकार- Govind Kurmi

विधा- अन्य

मेरी तन्हाइयों का राज तुम हो ।
मेरा कल तुम हो मेरा आज तुम हो।

जब जब तुझको ढूंढा, पाया अपने दिल में ।
जालिम दुनिया ने मिलने ना दिया हमको भरी महफिल में ।

गलती मेरी ही होगी इसमें तेरी कोई खता नहीं ।
क्यों चाहा तुझको खुद से ज्यादा ये मुझको पता नहीं ।

वो डरकर जमाने से बोली की भुला दे मुझे ।
हर धड़कन में तू है क्या करें बता दे मुझे ।

Sponsored
Views 78
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Govind Kurmi
Posts 38
Total Views 3.2k
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment