“तुम कब आओगे” //ग़ज़ल//

दुष्यंत कुमार पटेल

रचनाकार- दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

विधा- गज़ल/गीतिका

बहर 2222 2222 222

हम रोतें बैठे है तेरी यादों में
तड़प रहें है भीगी-भीगी रातों में

तुम हुई हो जबसे ओझल नज़रो से
देख तस्वीर तेरी खोयें है ख्वाबों में

तुमबिन हर तरफ़ ग़मजदा है वो यारा
तुम कब आओगे बैठे है राहों में

दरम्यां सनम मिटा दो क्यों दूर खडे हो
आ करके पास मुझे भर लो बाहों में

मेरी मेहबुबा दिल न जला नजदिक आ
डूब मुझे जाने दे नीली आंखों में

✍दुष्यंत कुमार पटेल"चित्रांश"✍

Views 58
Sponsored
Author
दुष्यंत कुमार पटेल
Posts 86
Total Views 3.1k
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia