“तुम” – एक गज़ल

ज़ैद बलियावी

रचनाकार- ज़ैद बलियावी

विधा- गज़ल/गीतिका

मेरी सुबह हो तुम,
मेरी शाम हो तुम!
हर ग़ज़ल की मेरे,
नई राग़ हो तुम!
मेरी आँखों मे तुम,
मेरी बातों मे तुम!
बसी हो जैसे,
मेरी साँसो मे तुम!
हर वादों मे तुम,
हर यादों मे तुम!
सोऊँ मैं कैसे,
मेरे ख्वाबो मे तुम!
मेरा प्यार भी तुम,
एक एहसास भी तुम!
रात है चाँदनी और,
मेरा चाँद भी तुम!
मेरी दवाँ कभी तुम,
मेरी जाँम भी तुम!
ज़िन्दगी का मेरे,
हर ईनाम भी तुम!

(((( ज़ैद बलियावी))))

Views 135
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
ज़ैद बलियावी
Posts 16
Total Views 1.8k
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia