तुम्हारी सोच का जवाब नहीं

satyam kumar yadav

रचनाकार- satyam kumar yadav

विधा- कविता

तुम्हारी सोच का जवाब नहीं
बेटा होने पर रात्रि भोज
बेटी होने पर खबर नहीं
तुम्हारी सोच का जवाब नहीं ।

बेटा होने पर डंका बाजे
आतिशबाजी की कमी नहीं,
बेटी होने पर शोकाकुल
चेहरे पे किसी के खुशी नहीं।

तुम्हारी सोच का जवाब नहीं ।

बेटा चाहे बने दुर्व्यसनी
अवगुणों की कसर नहीं,
बेटी चाहे बने सुशीला
उसकी सेवा की कदर नहीं।

तुम्हारी सोच का जवाब नहीं।

Views 266
Sponsored
Author
satyam kumar yadav
Posts 3
Total Views 283
कहानियों एवं कविताओं के लेखन का शौक । युवा साहित्यकार फेसबुक-www.facebook.com/satyamyadav555 कानपुर उ. प्र. , संपर्क सूत्र -7619087371 ई-मेल : skyadav0730@gmail.com
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia