तुम्हारा सच

Anil Shoor

रचनाकार- Anil Shoor

विधा- कविता

_कविता_
तुम्हारा सच

*अनिल शूर आज़ाद

दर्पण की
एक दरार ने/जब
दो चेहरों में
बांट दिया था
तुम्हारा चेहरा/तो
आगबबूला होकर
फेंक दिया था
तुमने दर्पण

चूर-चूर
हो गया था
दर्पण
पर..तब
एक अचंभा भी
हुआ था

दर्पण के
सैंकड़ो ताज़ा टुकड़ों ने
दिखाए थे/तुम्हारे
और/ढ़ेर चेहरे

और..उजागर
कर दिया था
तुम्हारा सच।

(रचनाकाल : 1988)

Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Anil Shoor
Posts 42
Total Views 387

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia