तुम्हारा सच

Anil Shoor

रचनाकार- Anil Shoor

विधा- कविता

_कविता_
तुम्हारा सच

*अनिल शूर आज़ाद

दर्पण की
एक दरार ने/जब
दो चेहरों में
बांट दिया था
तुम्हारा चेहरा/तो
आगबबूला होकर
फेंक दिया था
तुमने दर्पण

चूर-चूर
हो गया था
दर्पण
पर..तब
एक अचंभा भी
हुआ था

दर्पण के
सैंकड़ो ताज़ा टुकड़ों ने
दिखाए थे/तुम्हारे
और/ढ़ेर चेहरे

और..उजागर
कर दिया था
तुम्हारा सच।

(रचनाकाल : 1988)

Views 4
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Anil Shoor
Posts 42
Total Views 304

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia