#तीन तलाक़….×××

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- कुण्डलिया

🌹🌻 तीन तलाक़ 🌻🌹
✏ कुण्डलिया छंद

न्यायालय ने दे दिया, *महिला का अधिकार।*
*तीन तलाक़ अवैध है*, बदलो ये व्यवहार।
बदलो ये व्यवहार, नाहिं कल-पुर्जा नारी।
सृजित संतती करे, *जगत की है आधारी।*
नारी बिन हैं सून, मूढ़ मन-मंदिर आलय।
कठमुल्लापन त्याग, *रगड़ देगा न्यायालय।*

××××××××××××××××××××××

शरिया और कुरान हैं, जग में मनुज हिताय।
मानव निज हित साधता, कर बहुरूप उपाय।
कर बहुरूप उपाय, गढ़ीं उल्टी परिभाषा।
दूषित भाव-विचार, बोलते भौंड़ी भाषा।
संविधान की आन, रखो तुम अब्दुल-करिया।
भारत कौ कानून, न माने तेरौ सरिया।

🌴🌹🌻🌺🌼🌺🌼🌻🌹🌴
🙏तेज मथुरा

Sponsored
Views 10
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 86
Total Views 1.2k
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia