तस्वीरी ख्याल

सगीता शर्मा

रचनाकार- सगीता शर्मा

विधा- कुण्डलिया

तस्वीरी खयाल
💐🙏🏼💐🙏🏼💐🙏🏼💐🙏🏼💐

नही आये न आयेंगे कभी वापस पुराने दिन
बहन में चाह भाई की लगें कितने सुहाने दिन

निवाला हाथ से उसने खिलाये याद आते है
सताते है रुलाते है हमें सच में पुराने दिन

गरीबी देखती चाहत अमीरी देख ना पाये
हुये अपने पराये क्यों बने पत्थर हमारे दिल

कसक दिल में उठे हर रोज दिखे जो रोड पर भूखा
नही ये देख पाते है पसीजे फिर हमारा दिल

रहे इंतजार हर दिन ही मिले खुशियाँ इन्हें हर इक
लिये संग साथ में अपने खिले इनके सुहाने दिन

मिले बस प्यार जीवन में नही है चाह दौलत की
लूट दें हर ख़ुशी अपनी मिले गर फिर पुराने दिन

संगीता शर्मा
8/4/2017

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सगीता शर्मा
Posts 20
Total Views 402
परिचय . संगीता शर्मा. आगरा . रूचि. लेखन. लघु कथा ,कहानी,कविता,गीत,गजल,मुक्तक,छंद,.आदि. सम्मान . मुक्तर मणि,सतकवीर सम्मान , मानस मणि आदि. प्यार की तलाश कहानी पुरस्क्रति.धूप सी जिन्दगी कविता सम्मानित.. चाबी लधु कथा हिन्दी व पंजाबी में प्रकाशित . संगीता शर्मा.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia