तश्वीर तेरी

सोमेश त्रिपाठी निर्झर

रचनाकार- सोमेश त्रिपाठी निर्झर

विधा- गज़ल/गीतिका

आलमारी में रखी किताबों को झाड़ते हुए
मैंने पाया तुझे,डायरी को फाड़ते हुए

किताबों के बीच से जब गिरी तेरी तश्वीर
लगा!कलेजे पर रख दिया किसी ने शमशीर

तेरी यादों की फसल को काटा था मैंने खंजर से
एक पल में सब याद आ गया इस नए मंजर से

उठाकर जब मैंने निहारा, नजदीक से तेरी तश्वीर
मानो मिल गया मुझको तेरा फिर से नया मुखबीर

एक पल में तश्वीर तेरी यादें ताज़ा कर गयी
मुझे लगा,जैसे तू मुझको फिर से मिल गयी

जनता हूँ कोई मतलब नही अब तेरी चाहत का
न कोई रास्ता ही है बचा अब मेरी राहत का

मन के भावों को समेट कर "सोमेश" ने वैसे रख लिया
जैसे तश्वीर को तेरी,किताबों में फिर से तह दिया
सोमेश त्रिपाठी "निर्झर"

Sponsored
Views 232
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सोमेश त्रिपाठी निर्झर
Posts 1
Total Views 232
मैं शब्दों से खेल कर खुश रहता हूँ लोग बेवजह पूछते है खुश ए मिजाज का माजरा क्या है

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia