तलाक

Rashmi Singh

रचनाकार- Rashmi Singh

विधा- कविता

न उलझी थी
न सुलझी थी
जब हम प्रेम पाश में बंधे थे
की अब कोई प्रेम को प्यास न मानता
जब से ये तलाक पास आई है
तखय्युल करता है ये जीवन ख़िज़ा सा
की हर शामें आलम सी छाई है
और मलालें तन्हाई आई है।
#रश्मि

Sponsored
Views 31
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rashmi Singh
Posts 6
Total Views 165

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia