डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ की तेवरी

DrRaghunath Mishr

रचनाकार- DrRaghunath Mishr

विधा- तेवरी

तेवरी काव्य

डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ की तेवरी :
000
हमने सब कुछ हारा मितवा.
जग ने जैम कर मारा मितवा.
घूम-घूम कर दुनिया देखि,
घर है सबसे प्यारा मितवा.
बहुतों ने सब कुछ दे डाला ,
अपनों सा न दुलारा मितवा.
मिलजुल रह रुखी-सुखी खा,
कभी न हो बटवारा मितवा .
पेड़ लगाओ -पेड़ बचाओ
नहीं चलाना आरा मितवा.
पटे न बेशक अपनों से पर,
अपना सबसे न्यारा मितवा.
‘सहज’ मनुज को बिकते देखा,
हमने मगर नाकारा मितवा.
@डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता/साहित्यकारसर्वाधिकार सुरक्षित

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 21
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
DrRaghunath Mishr
Posts 57
Total Views 800
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' अधिवक्ता/साहित्यकार/ग़ज़लकार/व्यक्तित्व विकास परामर्शी /समाज शाश्त्री /नाट्यकर्मी प्रकाशन : दो ग़ज़ल संग्रह :1.'सोच ले तू किधर जा रहा है 2.प्राण-पखेरू उपरोक्त सहित 25 सामूहिक काव्य संकलनों में शामिल

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia