टूटकर बिखरना अब तज भी दो यार…

अरविन्द दाँगी

रचनाकार- अरविन्द दाँगी "विकल"

विधा- कविता

टूटकर बिखरना अब तज भी दो यार…
खिलकर सिकुड़ना अब छोड़ो भी यार…
कैसी टूटन कैसी उदासी अब खुद से…
जो रख न पाया ख्याल तुम्हारा…
जो छू न पाया मन तुम्हारा…
जिसने जाना भी नही तुमको तुणीर भर…
फिर क्यों बहावो ये अश्रु नीर तुम…
क्यों करो फिर खुद को अधीर तुम…
जो गया उसे जब न थी महत्ता तुम्हारी…
उसे न थी जब कोई परवाह तुम्हारी…
न होवो विकल न रहो खुद से मौन…
फिर से जीवंत हो उठो…
खुद में फिर खिलखिला उठो…
महकने दो खुदी को…
खुद के जीवन को फिर स्वर दो…
न मनाओ अफ़सोस और न टूटो खुद से…
ये टूटना ये बिखरना सब छोड़ दो तुम मन से…
शक्ति हो तुम यार जीवन को फिर सृजन दो…

✍कुछ पंक्तियाँ मेरी कलम से : अरविन्द दाँगी "विकल"

Views 1
Sponsored
Author
अरविन्द दाँगी
Posts 17
Total Views 126
जो बात हो दिल की वो कलम से कहता हूँ.... गर हो कोई ख़ामोशी...वो कलम से कहता हूँ... ✍अरविन्द दाँगी "विकल"
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia