टुटा हुआ तारा

अनुपम राय'कौशिक'

रचनाकार- अनुपम राय'कौशिक'

विधा- कविता

दुःखों का जाल भी है,
दर्द बेमिसाल भी है,
फिर भी हँसते रहें है,
ये भी कमाल ही है!

लपटें भी उठ रहीं हैं,
ज्वाला धधक रही है,
बाहर से यूँ खड़े हैं,
अंदर से खाक भी हैं!

इम्तेहान मेरा भी था,
इम्तेहान तेरा भी था,
मैं जीत कर हारा हूँ,
तू हार कर भी जीता!

तुझे मिल गयी ख़ुशी है,
मैं बुझ गया हूँ सारा,
तू चाँद चमकता है,
मैं टुटा हुआ तारा!

-अनुपम राय'कौशिक'

Views 55
Sponsored
Author
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment