” झूल रहा है ललना पलना ” !!

Bhagwati prasad Vyas

रचनाकार- Bhagwati prasad Vyas " neerad "

विधा- गीत

किस्मत की रेखाओं में दम !
हमें मिला है अथक परिश्रम !
हैं रोज बो रहे , रोज़ काटते –
भविष्य अनिष्चित लगता बेदम !
रो रो कर खुद चुप हो जाता ,
भूख को इसकी लगे न टलना !!

सिर पर बोझा लाद रखा है !
सुख का स्वाद कहाँ चखा है !
रात दिवस हैं थके थके से –
समय भी अपना कहां सखा है !!
सिरहाने अपने कांटें हैं ,
यों ही उम्र को है बस ढलना !!

है अभाव में लालन पालन !
झिड़की मिले , नहीं सम्भाषण !
वक्त नहीं मीठी बातों का ,
नजरों से ही यहां दुलारन!
धूप , नज़र से तुम्हे बचाऊं –
दुनिया ज़ालिम बड़ी है छलना !!

बड़ी हसरतों से पाला है !
पिया हलाहल का प्याला है !
अमावस के घेरे मिट जाए –
जीवन का तू उजियाला है !
बाधाओं से हार न मानी –
संभल संभल कर पग तू धरना !!

बृज व्यास

Views 140
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Bhagwati prasad Vyas
Posts 105
Total Views 26.9k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia