झूला

Shubha Mehta

रचनाकार- Shubha Mehta

विधा- कविता

एक वृक्ष कटा
साथ ही कट गई
कई आशाएँ
कितने घोंसले
पक्षी निराधार
सहमी चहचहाहट
वो पत्तों की सरसराहट
वो टहनियाँ
जिन पर बाँधते थे
कभी सावन के झूले
बिन झूले सावन
कितना सूना
कटा वृक्ष
वर्षा कम
धरती सूखी
पडी दरारें
न वृक्ष
. न झूला
न सावन ???

Sponsored
Views 37
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Shubha Mehta
Posts 15
Total Views 651

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
4 comments