” ——————————————— झुके न कभी निगाहें ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

प्यार सभी को मन भाता है , प्यार सभी हैं चाहें !
प्यार अगर हो सच्चे दिल से , झुके न कभी निगाहें !!

बेजुबान से प्यार करें तो , यार बने वह सच्चा !
सेवा सध जाये तो जानो , जन जन हमें सराहें !!

धोखा औ फरेब तो केवल , बीच है अपने पलता !
जीवों और परिंदों के लिये , खोल रखे ये बाहें !!

नफरत अपनों में पलती है , मिलते रहें छलावे !
उन अबोध के लिये भी रखो , थोड़ी बहुत पनाहें !!

अपने लिए तो सब सोचें है , कुछ औरों कीसोचें !
उनका दर्द अगर बंट जाये , ऐसी चुन लें राहें !!

पाप पुण्य का भेद न जानें , धर्म अगर सेवा हो !
इतने कान खुले रखना हैं , सुनते रहें कराहें !!

लोग हँसे या चर्चे कर लें , सब जानो बेमानी !
अवसर हमें भुनाना है तो , भरते रहे क्यों आहें !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 159
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 29.5k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia