ज्यों ही किया निकाह

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

मैने उनकी याद से, ज्यों ही किया निकाह !
कविता करने की बढ़ी,स्वत: और भी चाह !!

मैने खुद ही तोड दी,. रिश्तों की वह डोर!
करती थी दिल से मुझे, प्राय: जो कमजोर!!

सद्कर्मों से ही मिले,.यश वैभव सम्मान!
सोलह आने सत्य यह,बात समझ नादान! !

रहा भूख औ प्यास का,मुझे कहाँ फिर ध्यान!
आया हाथों में जहाँ, ..ग़ालिब का दीवान!!
रमेश शर्मा.

Sponsored
Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 178
Total Views 3.3k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia