जोड़कर बढ़ो

Shri Bhagwan Bawwa

रचनाकार- Shri Bhagwan Bawwa

विधा- कविता

रूढियों को पीछे , छोड़कर बढ़ो,
जो भी टूटा है उसे जोड़कर बढों ।
यूं तो हर वर्ष आता है नया साल,
इस बार अहम् को तोड़कर बढ़ो ।
बहुत ही खूबसूरत दिखेगी दुनिया,
जेहन से नफरतों को निचोड़कर बढ़ो।

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Shri Bhagwan Bawwa
Posts 19
Total Views 409

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia