जेनयू बलात्कार कांड पर कविता

डॉ सुलक्षणा अहलावत

रचनाकार- डॉ सुलक्षणा अहलावत

विधा- गज़ल/गीतिका

जेनयू में बलात्कार हुआ, हां सही सुना जी बलात्कार हुआ,
पर क्या बलात्कार पर कहीं शोर शराबा या हाहाकार हुआ।

दया शंकर के ब्यान पर दहाड़ने वाले शेर छिप गए हैं कहीं,
इस वोटों की राजनीति के आगे हर कोई आज लाचार हुआ।

रियो ओलंपिक में बेटियों के मेडल लाने पर थे खुश सभी,
अब कहाँ गए वो सारे जब बेटी की इज्जत पर वार हुआ।

नेता जी तुम्हारी बेटियाँ चलती हैं सुरक्षाकर्मियों के घेरे में,
अकेली भेजो बेटी को बाहर, पता चले, कैसा सत्कार हुआ।

उन वकीलों से भी विनती है जो बचाते हैं बलात्कारियों को,
उस बेटी पर क्या बीत रही होगी जिस पर अत्याचार हुआ।

बेच देते हो ज़मीर को चंद वोटों और सिक्कों के लिए तुम,
क्या बीतेगी दिल पर जब तुम्हारी बेटी से व्याभिचार हुआ।

जब एक बेटी की इज्जत ही नहीं बचा पाती है सरकार,
उसका "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" का नारा बेकार हुआ।

उम्मीद है कलमकारों से सोये हुए ज़मीरों को जगा दें वो,
जो बदलाव ना ला सका सुलक्षणा कैसा वो कलमकार हुआ।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
Posts 115
Total Views 18.3k
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ सरस्वती की दयादृष्टि से लेखन में गहन रूचि है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia