जुल्म की इन्तहा

DESH RAJ

रचनाकार- DESH RAJ

विधा- गज़ल/गीतिका

“ जुल्म की इन्तहा ” करके “ जहाँ ” में वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

प्यार के गुलशन में “गुनाह” करके वो जरा भी “उफ” नहीं करते ,
हम अगर “उफ” भी करते हैं , तो उसे वो “गुनाह” का नाम देते ,
गुलशन में आग लगाकर “ प्यार के फूलों ” की उम्मीद करते ,
इंसानियत को तार-2 करके जग में अच्छाइयों की उम्मीद करते ,

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

बहन-बेटियों की आबरू से खेलकर तुझे क्या मिलेगा ?
नफरत की दीवाल से घरोंदा सजाकर तुझे क्या मिलेगा ?
“भारत के आँगन ” में कांटे बिछाकर तुझे क्या मिलेगा ?
जीवन के खाते में गुनाहों को बढ़ाकर तुझे क्या मिलेगा ?

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

“समझ –ए नादान इंसान” जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“ प्यार के फूल ” खिला दे जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“इंसानियत का दीपक” जला दे जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“राज” डर उस “जग के रखवाले ” से फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

देशराज “राज”
कानपुर

Views 115
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
DESH RAJ
Posts 17
Total Views 1.2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia