जी का काव्य में प्रयोग

डॉ मधु त्रिवेदी

रचनाकार- डॉ मधु त्रिवेदी

विधा- कविता

तुम आवाज दे
बुलाते
सूनो जी
मैं जबाब देती जी
कहती बोलो जी
कितना प्रिय लगता
जी कहना
हाँ जी में जी मिलाना

फिर एक मौन
मैं कहती कहो जी
तुम चुप
मैं आती जी
पास तुम्हारे
सटके बैठ जाती जी
शुरू करती कहकर सुनो जी
दिनभर की
तुम अपनी भूल जाते
मेरी ही सुनते जी

जी सम्बोधन में
आत्मीय का भाव छलकता
वही तो बाँधता है तुमको
तभी तो तुम
पुकारते हो मुझे
सुनती हो जी
मैं भी बन तुम्हारी छाया
चली आती हूँ जी
रेशम की डोर सी खींची
जी जी जी जी कहती हूँ
लिपट जाती हूँ जी
तुम्हारे आगोश में
जी कहकर
जी शब्द ही तो मुझे
बनाए मुझे तुम्हारा

जी शब्द की खाद पाकर
ही तो यह
प्रेम वृक्ष पनपा
दीर्घकाय हुआ है
जी आज भी तुम
मेरी आत्मा हो जी
आत्मा और शरीर जैसा
जैसा है सम्बन्ध
क्योंकि जी
एक अभिन्न रिश्ता है
जी आपके साथ
मेरा जी

Sponsored
Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ मधु त्रिवेदी
Posts 279
Total Views 4.7k
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों में रचनायें विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia