“जीवन में हम”

Prashant Sharma

रचनाकार- Prashant Sharma

विधा- गज़ल/गीतिका

दो शरीर एक श्वांस हैं हम,
एक दूजे के खास हैं हम।

दूर भले हम कितने रह लें,
दिल के मगर अति पास हैं हम।

प्रेम-सुधा उर में भर घूमें,
राधा-कृष्ण के दास हैं हम।

निज जीवन गर मानसरोवर,
समझिये फिर आकाश हैं हम।

अगर ज़िन्दगी पार्वती तो,
शंकर के उच्छवास है हम।

इक-दूजे का बनें आसरा,
जीतें सदा विश्वास हैं हम।

तिमिर घिरा हो चाहे कितना,
रवि के जैसा प्रकाश हैं हम।

*प्रशांत शर्मा 'सरल',नरसिंहपुर

Views 15
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Prashant Sharma
Posts 28
Total Views 1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia