जीवन का आधार है बेटी “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

रचनाकार- मनोज कुमार

विधा- कविता

जीवन का आधार है बेटी ।
सुख शक्ति संसार है बेटी ।।

बदल देती जो दुनिया को ।
ऐसा एक बदलाव है बेटी ।।

अत्याचार करो नही इनपे ।
दुर्गा की अवतार है बेटी ।।

बोझ नही समझों ना इनको ।
दर्पण सी नाजुक है बेटी ।।

है बिटिया भविष्य हमारा ।
घर आँगन इज्जत है बेटी ।।

दहेज हत्या दूर करो सब ।
आँखों की ज्योति है बेटी ।।

करो जागरूक मन सब अपने ।
बेटो की माँ भी है बेटी ।।

ज्ञान और आंचल की छायें ।
सपनो की रानी है बेटी ।।

सभ्यता संस्कृति और विरासत ।
धर्म समाज की शिला है बेटी ।।

बंद रखोगे कब तक इनको ।
शिक्षा की हक़दार है बेटी ।।

रखो सुरक्षित बेटी को ।
बेटा भी देती है बेटी ।।

“मनोज कुमार”

Views 142
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मनोज कुमार
Posts 38
Total Views 480
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia