जिंदा रहते हैं कमाल करते हैं

रवि रंजन गोस्वामी

रचनाकार- रवि रंजन गोस्वामी

विधा- शेर

छोड़िये ये बेकरारी, बेसबब ,
लोग चिल्लाते हैं बेमतलब,

जिंदा रहते हैं कुछ लोग मर कर भी ,
जायेँ श्मशान में या रहें कब्रों में सही ।

जो जिंदा रहते हैं कमाल करते हैं ।
कुछ हर बात पे मरने की बात करते है ।

Views 4
Sponsored
Author
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia