जान को मेरी….

Tejvir Singh

रचनाकार- Tejvir Singh

विधा- गज़ल/गीतिका

🌺🌻🌹 ग़ज़ल 🌹🌻🌺
बह्र – 212 – 212 – 212 – 212

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

जान को मेरी अब यूँ निकालो न तुम।
आज सीने से मुझको लगा लो न तुम।

गश न आए मुझे जब हो तुम रूबरू।
इस क़हर से ख़ुदारा बचा लो न तुम।

देखकर के तुम्हें देखती रह गयी।
ये नज़र थोड़ा नीचे झुका लो न तुम।

हर तरफ हर जगह है तिरा अक्स ही।
गफलते जिंदगी को सम्भालो न तुम।

रूह की घाटियों में समाते हुए।
जिंदगी की भँवर से निकालो न तुम।

कश्मकश हो गयी है मिरी जिंदगी।
ज़ख्म भरने का मल्हम निकालो न तुम।

*तेज* अहसास मुझको करें बावली।
दिल मिरा अपने दिल से मिला लो न तुम।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
© तेजवीर सिंह 'तेज'✍

Views 2
Sponsored
Author
Tejvir Singh
Posts 27
Total Views 155
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia